All India News

दीपावली मनाने का असली कारण क्या है ?

दीपावली त्योहार को लेकर समाज में कई तरह की धारणाएं, परंपराएं और रीति रिवाज़ प्रचलित है। उनमें से कुछ का तो हिन्दू धर्म में उल्लेख है, लेकिन अधिकतर का स्थानीय संस्कृति और पहले से चली आ रही परंपरा से संबंध है। दीपों का पर्व होने के कारण दीपावली एक बहुत ही सुंदर त्योहार या उत्सव है। यह ठंड की शुरुआत का उत्सव भी है।  

आखिर किस वजह से मनाई जाती है दीवाली

दीपावली मनाने के कारण?

इस दिन भगवान विष्णु ने राजा बलि को पाताल लोक का स्वामी बनाया था और इन्द्र ने स्वर्ग को सुरक्षित जानकर प्रसन्नतापूर्वक दीपावली मनाई थी।
इस दिन भगवान विष्णु ने नरसिंह रुप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था।
इसी दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए थे।
इसी दिन भगवान राम 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे।
इस दिन के ठीक एक दिन पहले श्रीकृष्ण ने नरकासुर नामक राक्षस का वध किया था।

पांच पर्वों का त्योहार है दिवाली : यह त्योहार पांच दिनों तक मनाया जाता है। कार्तिक माह की त्रयोदशी से शुक्ल द्वितिया तक यह त्योहार मनाया जाता है जिसमें कार्तिक माह की अमावस्या को मुख्य दीपावली पर्व होता है। अर्थात धनतेरस से भाई दूज तक यह त्योहार चलता है। आज से लगभग 50 वर्ष पहले तक इस त्योहार को शहर और गांव में एक जैसा ही मनाया जाता था लेकिन अब आधुनिकता के चलते शहरों में इस त्योहार की रंगत और रौनक बदल गई है जबकि गांवों में भी अब इस त्योहार का परंपरागत रूप बदल रहा है। आओ जानते हैं वे कौन-से ऐसे 12 कार्य हैं जो पांच दिन चलने वाले दीपोत्सव में किए जाते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *